शुक्रवार, 3 जुलाई 2020

हाइकु #1

हाइकु

1) विरह गीत
गुनगुनाती है वो,
वर्षा ऋतु में

2) सर्द रात्रि में,
है गर्म रजाई सी,
माँ तेरी याद

3) एक शाम थी
तुम थी, मैं था और
थी तन्हाई


© विकास नैनवाल 'अंजान'


2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स