परिचय


अपने विषय में बात करना बेहद अजीब होता। मैं कौन हूँ? एक इंसान जो हर दिन अपने को सुधारने की कोशिश करता रहता है। मेरे अन्दर कई पूर्वाग्रह हैं जिनसे निजाद पाने की कोशिश करता रहता हूँ। कई कमियाँ हैं जिन्हें दूर करने की कोशिश करता रहता हूँ।

नाम विकास नैनवाल है। मूलतः पौड़ी गढ़वाल से हूँ। और आजकल गुडगाँव में रैनबसेरा है। पेशे से एक सॉफ्टवेर इंजिनियर हूँ। कुछ लिखते रहने की भी चाह है। घूमना,पढ़ना पसंद है। आजकल जिधर घूमने जाता हूँ उस सफ़र को दर्ज करने का फितूर भी सवार है।


ये वेबसाईट मेरे ऐसे ही विचारों को रखने का माध्यम है। जब मन किया लिख लिया, जिस विषय ने लिखने के लिए प्रेरित किया उसके ऊपर लिख लिया।

इस वेबसाईट  के अलावा निम्न वेबसाईटों  पर भी मैं लिखता रहता हूँ:



मुझसे सम्पर्क करना चाहें तो आप माध्यक से सकते हैं:

ईमेल: nainwal.vikas@gmail.com 

सोशल मीडिया: Facebook | ट्विटर | इंस्टाग्राम

इस वेबसाईट से जुड़ा फेसबुक पृष्ठ: दुई बात



किताबें:


मेरी अब तक निम्न किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। आप लिंक पर क्लिक करके इन किताबों के विषय में ज्यादा जानकारी ले सकते हैं।

रचना संग्रह:

  1. एक शाम तथा अन्य रचनाएँ | लिंक: अमेज़न

साझा संकलन 

मेरी कुछ कहानियाँ साझा संकलनो में भी शामिल हुई हैं। 
  1. हॉरर स्टोरीज | कहानी: सयाली |  लिंक: अर्चना प्रकाशन)
  2. उफ्फ़... डर का मंजर | कहानी: डेडलाइन | लिंक:   शोपीजन
  3. बालकथा सागर 2 | कहानी: इशिता की सूझबूझ | लिंक:  शोपीजन

अनुवाद:

  1. रहस्यमय खबरी | विधा: कहानी | पत्रिका:  तहकीकात पत्रिका - जनवरी 2022 | लिंक: अमेज़न
  2. नेवर गो बैक - ली चाइल्ड | विधा:  उपन्यास | प्रकाशक: सूरज पॉकेट बुक्स | लिंक: अमेज़न , सूरज पॉकेट बुक्स , साहित्य विमर्श



4 टिप्पणियाँ

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

  1. आपका 'परिचय' लिखने का अन्दाज़ बहुत पसंद आया विकास जी! आपकी निरंतर प्रगति की कामना करता हूँ।
    आपके द्वारा दी जा रही ब्लॉग सम्बन्धी जानकारियाँ सभी इच्छुक लोगों के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होंगी, ऐसा मानता हूँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी आभार सर। ऐसी ही टिप्पणियाँ लिखते रहने के लिए प्रेरित करती रहती हैं। साथ बनाये रखियेगा।

      हटाएं
  2. बहुआयामी जानकारियां प्रदर्शित करते हैं सभी ब्लॉग या यूँ कहा जाए अपने आप में वाचनालय का कोई चलता फिरता कुंजी पटल हैं , शुभकामनाओं सह।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।