मंगलवार, 31 दिसंबर 2019

अलाव

अलाव
अलाव 

र्द शाम हो
एक गर्म अलाव हो
तू हो
और होऊँ मैं,
दोनों मिलकर
बन जाएँ हम 

बस है यही 
मेरी ख्वाहिश

पर
जब
इस शाम में
तू नहीं है पास
तो
अलाव के पास बैठा
करता हूँ याद
मैं तुझे
तेरी बातों को
तेरी मुस्कराहट को

और फिर
मुस्कराता हूँ
मैं
महसूस करके
उस तपन को
जो कि है शायद
तेरी मोहब्बत की
या फिर मेरे मन से जलते
इस अलाव की
© विकास नैनवाल 'अंजान'

मेरी अन्य कविताओं को आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
कविता

#फक्कड़_घुम्मकड़
#पढ़ते_रहिये_घूमते_रहिये

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर सृजन.. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई विकास जी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी आभार मैम। आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई, मैम।

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति। मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स