शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

चलना

Image by Free-Photos from Pixabay


चलना ही है मेरी नियति
चलना ही है मेरी फितरत

चाह कर भी नहीं पाता हूँ ठहर
करता हूँ कोशिश तो धकेल देती है ज़िन्दगी मुझे आगे

रोती है यह किसी ज़िद्दी बच्चे की तरह
अपनी इच्छाओं और आकांक्षाओं का बोझ लादती है मुझ पर

मैं बढ़ चलता हूँ उन्हें पूरा करने को
अपनी ठहराव की चाहत हो त्यागकर

क्योंकि
चलना ही है मेरी नियति है
चलना ही है मेरी मजबूरी

मैंने सुना है
जो रहता है जड़ वो मर जाता है

इसलिए चलते रहना है मुझे
ताकि रहे अहसास अपने जिंदा होने का

फिर भले ही मूँदनी पड़े मुझे अपनी आँखें
बन्द करने पड़े अपने कान

ध्यान हो बस चलने पर
उठते गिरते कदमों पर
उठती गिरती साँसों पर
अपनी कभी पूरी न होने वाली इच्छाओं पर 

न देखूँ जो हो रहा है आसपास
न सोचूँ कुछ भी
बस रहूँ चलता

क्योंकि 

चलना ही है मेरी नियति 
चलना ही है मेरी इच्छा


©विकास नैनवाल 'अंजान'

2 टिप्‍पणियां:

  1. गतिशीलता जीवन और उन्नति की प्रतीक है इसलिए चलते रहिए ..यही जिन्दगी है । खूबसूरत सृजन ।

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

हफ्ते की लोकप्रिय पोस्ट(Last week's Popular Post)