शनिवार, 17 सितंबर 2016

गुस्ताख़: मच्छर का कारोबार

आजकल मच्छर और उससे होने वाली बिमारियों से सभी वाकिफ हैं। भय का वातावरण हैं। मरीजों को अस्पताल में रखने की जगह नहीं है। लेकिन हम इस समस्या से जूझने में इतने नाकामयाब क्यों हो रहे हैं। मंजीत ठाकुर जी की रिपोर्ट इसके ऊपर एक अलग दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है। पढ़िए।

गुस्ताख़: मच्छर का कारोबार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स