मंगलवार, 5 नवंबर 2019

वैम्पायर की प्यास


वैम्पायर की प्यास
Image by Pete Linforth from Pixabay



कभी धुंधलके रस्ते से
कभी अँधेरे कोनो से
कभी किसी झुरमुटे से
वह देखता रहता है
और करता है इंतजार
किसी ज़िंदा इनसान का
घात लगाकर

पहुँचा है वो इधर
अपनी आत्मा बेचकर
अपने को मारकर 

ताकत,उम्र,जवानी,दौलत
न जाने कितनी चाहतों
कितनी इच्छाओं
के चलते
चुना था उसने यह रास्ता

पर अब जब
पाई है मंजिल
तो हुआ है उसे अहसास
अपने एकाकीपन का
अपने होकर भी न होने का
ज़िन्दगी को खोने का

और इसलिए
वह मौका देखकर
चूस लेता है खून
उन ज़िंदा इनसानों का
इस उम्मीद से
कि उनके नसों में
दौड़ता गर्म रक्त
भर देगा
उसके मरे ठंडे पाषाण हृदय में
ज़िन्दगी की गर्माहट
करा देगा 
उसे फिर से एहसास 
कि कैसा होता था 
जिंदा होना 


पर 
है नहीं ये मुमकिन
जानता है वो
पर मानना नहीं चाहता
इसलिए
पीता जाता है
रक्त ज़िंदा इनसानों का
सदियों से
अनवरत 

और 
होता है हैरान
कि क्यों मिटती नहीं
उसकी प्यास!!
क्यों मिलता नहीं उसे चैन
क्यों पूरी नहीं होती उसकी आस

©विकास नैनवाल 'अंजान'


नोट: वैम्पायर ऐसे मिथकीय जीव हैं जो मुझे हमेशा से ही आकर्षित करते आये हैं। ज्यादातर कहानियों में उन्होंने अपने किसी स्वार्थ के चलते कुछ किया जिससे वह इस रूप में परिवर्तित हुए। लेकिन अगर सोचा जाए इससे उन्हें अक्षयता और वैभव तो मिला लेकिन उसके साथ ही तिरस्कार, एकाकीपन और छुपकर रहने का अभिशाप भी मिला। ऐसे में क्या यह अक्षयता उस चीज के बराबर था जिसे खोकर उन्होंने इस अमरता को पाया है? शायद नहीं।  

इसी चीज को दूसरे तरीके से देखा जा सकता है। हमारे यहाँ भी कुछ वैम्पायर हैं। यह सभी शोषक वर्ग हैं जो कि अपने स्वार्थ और लालच के चलते अपने लिए ऐश्वर्य और धन सम्पत्ति करने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि वह यह सब करते हुए कितने लोगों का खून चूस रहे हैं इसका उन्हें ख्याल तक नहीं रहता है। लेकिन फिर इन वैम्पायर का अंत भी ज्यादातर ऐसा ही होता है। इतिहास इसका गवाह रहा है। तो अगर आपको वैम्पायर पर यकीन न हो तो आप वैम्पायर की जगह उन शोषकों को और जिंदा इनसान की जगह शोषितों को रख सकते हैं। इस रचना पर दोनों ही चीजें लागू होंगी।

मेरी दूसरी कवितायेँ आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
कविता

14 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना बुधवार ६ नवंबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी पोस्ट पर मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार। 

      हटाएं

  2. सच वैम्पायर की कोई कमी नहीं आज हमारे इर्द-गिर्द
    बहुत अच्छी कविता और नोट में उसके बारे में जानकारी अच्छी लगी

    जवाब देंहटाएं
  3. लाज़वाब....सत्य आज के युग में व वैम्पायर भी ज़िन्दा इंसान ही है

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर और सार्थक रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. सटीक विषय पर सार्थक सृजन

    जवाब देंहटाएं
  6. शोषक और शोषित की कल्पना वैम्पायर और उसके शिकार व्यक्तियों से ..तुलना की दृष्टि से लाजवाब करती बहुत उम्दा रचना विकास जी ।

    जवाब देंहटाएं
  7. Isko Padh kar toh rongte khade hogye, aap isko Pocket FM par audio mein record bh krskte hain. Aur logo ko suna skte hain.

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

हफ्ते की लोकप्रिय पोस्ट(Last week's Popular Post)