शुक्रवार, 18 दिसंबर 2020

हो मुझसे अलग, यह तुम्हारा एक वहम है

 

Image by Gerd Altmann from Pixabay

हो मुझसे अलग, यह तुम्हारा एक वहम है,
करोगे गौर तो पाओगे, फर्क बहुत कम है

रंग,भाषा,देश,भेष हो भले ही जुदा-जुदा
है खुशी एक सी, एक सा अपना गम है

हैं जख्म कुछ तेरे, कुछ जख्म हैं मेरे भी
प्यार-मोहब्बत ही इन जख्मों का मरहम है

हो बानी1 इस दुनिया के, तुम ही 'अंजान'
चाहो तो जन्नत यहीं,गर चाहो तो जहन्नम है

विकास नैनवाल 'अंजान'

1.बानी : बनाने वाला,

यह भी पढ़ें: मेरी अन्य कवितायें

© विकास नैनवाल 'अंजान'

12 टिप्‍पणियां:

  1. अद्भुत !! जीवन दर्शन पर बहुत भावपूर्ण भावाभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१९-१२-२०२०) को 'कुछ रूठ गए कुछ छूट गए ' (चर्चा अंक- ३९२०) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी चर्चा अंक में मेरी रचना को शामिल करने के लिये हार्दिक धन्यवाद...

      हटाएं
  3. वाह क्या बात है। बहुत ख़ूब नैनवाल जी।
    सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  4. वैसे तुझ में मुझ में कुछ फर्क ही नहीं तू निर्मल में सामल हूं बस .. वाह अद्भुत।

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स