मंगलवार, 12 जनवरी 2021

अजनबी या दोस्त

अजनबी या दोस्त
Image by analogicus from Pixabay 


ज़िन्दगी
रेत सी फिसलती चली गयी

अजनबी
दोस्त होते गए

दोस्त
अजनबी होते गए

कभी 
दोस्त अजनबी से लगे

कभी 
अजनबी दोस्त से लगे

और मैं
करता रहा असफल कोशिश

पहचानने की
कौन है दोस्त और कौन अजनबी

जो थे साथ 
उन्हें चले जाने दिया 

उनके लिए 
जो नहीं रहना चाहते थे साथ

और
रह गया निपट अकेला 

जैसे 
रह जाता है शरीर 

आत्मा
                                                                 के निकल जाने के बाद                                                               

© विकास नैनवाल 'अंजान'

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 13 जनवरी 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सांध्य दैनिक मुखरित मौन में मेरी रचना को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार,मैम....

      हटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति।
    मकर संक्रान्ति का हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी आभार.... आपको भी मकर संक्रान्ति की हार्दिक बधाई....

      हटाएं
  3. कभी दोस्त अजनबी तो कभी अजनबी दोस्त..यही जीवन है और इसका सफर अनवरत इसी तरह चलता है अपनी धुरी पर । हृदयस्पर्शी सृजन।

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स