रविवार, 12 जुलाई 2020

इंतजार

इंतजार
इंतजार

एक जोड़ी आँखें
करती रहती हैं
इंतजार
उसका जो चला गया था
छोड़कर कभी
ज़िन्दगी के सफर में
बीच मझदार पर

एक जोड़ी आँखें
करती रहती हैं इंतजार
उन खुशियों का
उन लड़ाइयों का
उन हसरतों का
उन तम्मनाओं का
जो होनी थी पूरी
पर हो न सकी कभी

एक जोड़ी आँखें
तकती रहती हैं
घर के द्वार की तरफ
हो जाती हैं सजग
जब सुनती हैं आहट कदमों की
इस उम्मीद में
के शायद लौट आये वो
किसी दिन
के न होना पड़ेगा
उन्हें नाउम्मीद
किसी दिन

एक जोड़ी आँखें
हो जाती हैं पनीली
आज भी
इतने वर्षों बाद
क्योंकि वो कैद हैं
अपने एकाकी पन के साथ
इस इंतजार में
के वो आएगा और दिलाएगा
निजाद
इस कैद से

एक जोड़ी आँखें
जानती हैं 
के न खत्म होगा इतंजार
न पूरी होगी उम्मीद
हर शाम
द्वार
को तकते हुए
गीली होती रहेंगी ये आँखें
क्योंकि
शायद
इस इंतजार ने
इस उम्मीद ने
आँखों के पोरों पर मौजूद अश्रुओं की बूंदों ने
ही जोड़ा हुआ है उसे उससे
जो छोड़ कर चला गया था
और न लौटेगा कभी

और शायद इसीलिए
यह एक जोड़ी आँखें
तकती रहती हैं
द्वार की ओर
और करती रहतीं हैं
इंतजार

© विकास नैनवाल 'अंजान'

16 टिप्‍पणियां:

  1. विकास भाई, उम्मीद पर इंसान जिंदा रह सकता है। इसलिए ही इंसान की आंखे किसी अपने का ििईंटजार करती रहती है। भयत सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  2. इंतज़ार तो दिल को होता है पर एक जोड़ी नयन ही हैं जो सहते हैं हर पीड़ा को और आनंद में लम्हों को भी ...
    सुंदर अर्थपूर्ण रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमस्कार,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार
    (17-07-2020) को
    "सावन आने पर धरा, करती है श्रृंगार" (चर्चा अंक-3765)
    पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा में मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार, मैम....

      हटाएं
  4. आंखे भी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह!लाजवाब अभिव्यक्ति.एक जोड़ी आँखों का जीवन आँखों में सिमट दिया आपने ...प्रेम की सुंदर अनुभूति.
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. बकौल कविवर कुंवर बेचैन-

    "प्रतीक्षा ही प्रेम का आधार है।"

    इंतिज़ार पर सुंदर रचना। कविता को सुगढ़ बनाने के लिए भाव,संवेदना और विचार को शब्दों में पिरोते समय अनावशयक विस्तार से बचना ज़रूरी है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी आभार। आपने सही कहा कि अनावश्यक विस्तार से बचना चाहिए। आपकी टिप्पणी किन हिस्सों को लेकर है यह अभी मुझे साफ़ नहीं हो पा रहा है। अगर आप साफ़ कर देंगे तो कृपा होगी और सुधार करने में मुझे मदद भी मिलेगी। आभार।

      हटाएं
  7. एक जोड़ी आँखों का इन्तजार...
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण सृजन
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स