शुक्रवार, 17 जनवरी 2020

हिसाब दे जा तू



मेरे इश्क़ का सब हिसाब दे जा तू,
बेवफा सही फक़त ख़िताब दे जा तू,

आया दिसंबर, ठिठुर रहा हूँ मैं,
 गर्म साँसों का अपने अलाव दे जा तू,

हो चुका धुँआ धुँआ अब ये शहर 
जीने भर को मुझे एक नक़ाब  दे जा तू

तबाह कर गुलिस्ताँ मेरा, हँस रहा वो,
गुनाहों का उसके उसे हिसाब दे जा तू

जो सीख ले दुनिया की झूठी रिवायते "अंजान",
हाथों में मेरी एक ऐसी किताब दे जा तू

©विकास नैनवाल 'अंजान'

नोट: यह ग़ज़ल उत्तरांचल पत्रिके के दिसंबर 2019  अंक में भी प्रकाशित हुई थी।


2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स