शनिवार, 16 मार्च 2019

इन फिजाओं में ये क्या पड़ा हुआ है,

Image by Free-Photos from Pixabay


इन फिजाओं में ये क्या पड़ा हुआ है,
क्यों नकाब हर चेहरे पर चढ़ा हुआ है,

दफन करने पड़ते हैं सवाल भी हमें,
ज़बाँ पर अब ताला मैंने भी जड़ा हुआ है

ये मौका वो नहीं,ये मजलिस भी वो नहीं,
देख सीना ताने हर एक खड़ा हुआ है,

लड़ने मरने को हैं तैयार अपनो से ही वो,
सच है के ये जमाना ही सड़ा हुआ है,

न वो मेरी सुने, न मैं ही सुनता हूँ उनकी,
अपने ही सोचों में हर कोई अड़ा हुआ है

फकत,बात इतनी के मोहब्बत का प्यासा हूँ,
देख न साकी,  प्याला मेरा खाली पड़ा हुआ है

गफलत थी तुझे, के तू अपनों में है अंजान,
अनजानों के बीच, तू आज भी तन्हा खड़ा हुआ है

- अंजान
मेरी दूसरी रचनायें आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
मेरी रचनायें

© विकास नैनवाल 'अंजान'

2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स