शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2019

इंसाँ हूँ

स्रोत: पिक्साबे

बनता हूँ,
बिगड़ता हूँ,
टूटता हूँ,
जुड़ता हूँ,
बिखरता हूँ,
सिमटता हूँ,
इंसाँ हूँ,
जीता जाता हूँ,

सुख दुःख
विरक्ति आसक्ति
प्रेम घृणा
महसूसता हूँ
इंसाँ हूँ
जीता जाता हूँ,

शिकार हूँ,
शिकारी भी,
सिंह हूँ,
हिरण भी,
अच्छा हूँ,
बुरा भी,
कभी ये हूँ,
कभी वो हूँ
इंसाँ हूँ
जीता जाता हूँ

विकास नैनवाल 'अंजान'©

मेरी दूसरी कवितायें या गज़लें आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:

4 टिप्‍पणियां:

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स