शनिवार, 16 फ़रवरी 2019

बता रक्खा है

स्रोत : पिक्साबे

काम काज को धता बता रक्खा है,
जनता को सरकार से खफा बता रक्खा है

जमा के मजमा ज़माने भर का
नेता ने खुद को खुदा बता रक्खा है,

सी कर ज़बाँ वो रहता है चुप चुप,
लोगो ने उसको शिकवा बता रक्खा है,

रख दे अपने ये लब मेरे लबों पर,
हकीम ने बोसे को तेरे दवा बता रक्खा है

लौट आये  बिना मिले  तुमसे, जो वो अंजान
सुना, रुसवा दुनिया ने उन्हें तुमको बता रक्खा है,

बोसा - चुम्बन, रुसवा - बदनाम

2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स