जोकर

स्रोत: पिक्साबे

वो हँसा है जो मुझे दर्द ए दिल देकर ,
खून बढ़ा उसका, मैं हूँ खुश बस यही सोचकर

फ़िज़ाओं में जो ये खुशबू सी है आ बसी,
क्या गुजरा था मेरा महबूब कहीं इधर से होकर

आज आसमाँ से गायब हुआ है जो क़मर,
शायद रात छत पर मुस्कराया था वो आकर

बालो में फिराके उंगलियाँ इतने न इतराओ अंजान,
कहना है उसका, दिखते हो तुम पूरे जोकर

©विकास नैनवाल 'अंजान'

6 टिप्पणियाँ

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

  1. बहुत खूबसूरत ...., एक से बढ़ कर एक अशआर..., सुन्दर सृजनात्मकता ।

    जवाब देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 08/02/2019 की बुलेटिन, " निदा फ़जली साहब को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बुलेटिन में मुझे शामिल करने के लिए आभार शिवम जी।

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

और नया पुराने