शुक्रवार, 14 अप्रैल 2017

ब्राउज़र और कैश इशू

मुझे काम के सिलसिले में कई बार लाइव साईट पे बदलाव करने होते हैं। ऐसे में बदलाव तो हो जाते हैं लेकिन कई बार यूजर को एक समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसा कई बार हुआ है कि उनके ब्राउज़र में वो नये बदलाव दिखाई ही नहीं देते हैं और वो अक्सर मुझे इस बाबत कॉल करते हैं। 

एक बार तो ऐसा हुआ कि वेबपेज में मौजूद चित्र थोड़ी देर के लिए आता है और फिर गायब हो जाता है। यूजर परेशान हो जाते हैं। 

तो आइये जाने ऐसा क्यों होता है?

इसका कारण ब्राउज़र की कैश (cache) मेमोरी है। अक्सर जब भी हम किसी वेबपेज को ब्राउज़र से एक्सेस करते हैं तो हमारा ब्राउज़र उसकी कॉपी अपने पास सुरक्षित रख लेता है। फिर जब आप दोबारा उस पेज पे जाते हैं तो ब्राउज़र कैश मेमोरी से उस पेज को लोड करता है। यानी पेज सर्वर की जगह लोकल कैश में मौजूद फाइल्स से आता है।
इससे फायदा ये होता है कि आपके द्वारा एक्सेस किया पेज जल्दी लोड होता है।  

ऐसे पेज में अगर बदलाव नहीं हुए हैं तो कोई दिक्कत नहीं होती है। लेकिन कुछ पृष्ठों में अगर बदलाव हुए हैं तो इसकी संभावना होती है कि आपका ब्राउज़र आपको नये पेज की जगह पुरानी सुरक्षित की गयी कॉपी दिखाता है जिससे आपको पेज के बदलाव नहीं दिखते हैं। अक्सर आप इसके लिए आईटी टीम को कॉल करते हैं और कहते हैं कि बदलाव नहीं दिख रहे हैं। 

मैं जहाँ काम करता हूँ उधर मैंने लोगों को एक प्रोटोकॉल बता रखा है। अगर ऐसा कुछ इशू आये तो आप सबसे पहले कैश क्लियर करके देखें। ऐसा करने से आपका  ब्राउज़र से स्टोर किया हुआ डाटा निकल जाएगा और ब्राउज़र  पुरानी स्टोर्ड कॉपी की जगह नए सिरे से पेज को लोड करेगा। अक्सर ऐसा करने से उनकी समस्या का निदान हो जाता है। 

ब्राउज़र से कैश क्लियर करना बहुत आसान होता है। 
आपको खाली ctrl+shift+delete दबाना है। ये शार्टकट लगभग सभी ब्राउज़र में काम करेगा। 
क्रोम में ये विंडो ऐसा दीखता है 
इंटरनेट एक्स्प्लोरर में ऐसा दिखेगा

एक ऐसा विंडो ओपन हो जाएगा और आप इसमें से विकल्पों का चयन करके आसानी से कैश हटा सकते हैं। जैसे की आप देख सकते हैं क्रोम में ये कैश्ड फाइल्स (cached  files ) के नाम के विकल्प के साथ हैं और इंटरनेट एक्स्प्लोरर में temporary internet files  के नाम से ये विकल्प है।
अगर मेरी माने तो आपको समय समय (एक दो महीने में एक बार) पर कैश क्लियर करते रहना चाहिए क्योंकि ब्राउज़र कई बार इस डाटा के कारण काफी ज्यादा मेमोरी ले लेता है। 



 अब  आप ऊपर देखें तो मेरे कैश डाटा  359 mb की है लेकिन मेरी सी ड्राइव में क्योंकि  काफी स्पेस है तो कंप्यूटर की स्पीड में कोई दिक्कत नहीं होती है। लेकिन अगर सी ड्राइव में स्पेस न हो या कम हो  तो ये 359  mb  काफी काम आ सकती है। 

उम्मीद है ये इनफार्मेशन आपके काम आयेगी और अगर ऐसी दिक्कत का सामना कभी हो तो आपको पता है आई टी टीम को कॉल करने से पहले एक बार आपको क्या करना है?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

हफ्ते की लोकप्रिय पोस्ट(Last week's Popular Post)