बुधवार, 17 दिसंबर 2014

गजब ढाते हो

खुद ही ज़ख्म देके मरहम लगाते हो ,
मेरी जान क्यूँ मुझ पर गजब ढाते हो ,

मेरी हालत देख कर जब तुम मुस्कुराते हो ,
पता है कितना मुझ पर गज़ब ढाते हो ,

जब भी मेरे इश्क ए इकरार को तुम नकारते हो ,
मेरी जान मुझ पर गज़ब ढाते हो ,

जानता हूँ जानबूझकर तुम मुझे चिढ़ाते हो ,
पर सोचा है कभी कितना मुझ पर गज़ब ढाते हो ,

मेरे सपनो में आकर मुझे जगाते हो ,
जाने क्यूँ मुझ पर इतना ग़जब ढाते हो।

- विकास 'अंजान'

नोट : copyright  © २०१४ विकास नैनवाल  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स