बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

परिचय

य  म्यारी पहलि पोस्ट च इलेयी मि ये म केवल अपण विषय म आप लोगों ते बतौण चौंहदु छौं। मेरु नों विकास नैनवाल च।  दिदाओं मि आजकल मुंबई मा रहणु छौं और एक प्राइवेट कंपनी मा कार्यरत छौं।  मि एक गढ़वाली छौं पर मिन गढ़वलि काफी देर मा सिखि, पर अब गढ़वालि म बोलणु मिथे भलु लगदु च।पर गढ़वलि  मा लिखण कि भि इच्छा मि रख्दों, ये का वास्ता मिन ये चिट्ठे कु निर्माण करि च।  मिथे उपन्यास, कहानी पढनू को शौक च।  ये का इलावा थोड़ा बहुत स्केचिंग कर्णु कु शौक भि च।  ये चिट्ठा म मि वे का बारा म भि लिखलु। ये चिट्ठा म गढ़वाली ,हिंदी और अंग्रेजी तिनया भाषा कु प्रयोग मि करलू।

अच्छा अब चल्दू छौं बाकि कि छुईं  बादमा लगौला।

22  अप्रैल 2017  (पोस्ट गढ़वाली में थी और उसका हिंदी अनुवाद नहीं था तो सोचा वो जोड़ लूँ। )
(ये मेरी पहली पोस्ट है इसलिए मैं इसमें केवल अपने विषय में आपको बताना चाहूँगा। मेरा नाम विकास नैनवाल है। मैं आजकल मुंबई में रहता हूँ (आजकल मैं गुड़गांव आ चुका हूँ ) और एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ। एक गढ़वाली हूँ लेकिन गढ़वाली काफी दिनों बाद बोलनी सीखी, लेकिन अब अक्सर गढ़वाली बोलना मुझे अच्छा लगता है। गढ़वाली में लिखने की भी इच्छा है और इसीलिए इस ब्लॉग का निर्माण किया है। साहित्य में रूचि रखता हूँ और इसके इलावा थोड़ा बहुत स्केचिंग करने का शौक है। इस चिट्ठे में इसी विषय में लिखूँगा। इस चिट्ठे में गढ़वाली, हिंदी और अंग्रेजी तीनों भाषाओँ का प्रयोग करने की कोशिश करूंगा।

अच्छा अब चलता हूँ बाकी बातें बाद में होंगी।  )

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिपण्णियाँ मुझे और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करेंगी इसलिए हो सके तो पोस्ट के ऊपर अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

लोकप्रिय पोस्ट्स